जब अमिताभ बच्चन ने बंगले के रहस्य को सुलझाने के लिए चुराए थे मम्मी के पैसे, फिर हुआ था कुछ ऐसा

0
20


अमिताभ बच्चन ने बचपन में इस वजह से चुराए थे पैसे

नई दिल्ली :

अमिताभ बच्चन बॉलीवुड की ऐसी शख्सियत हैं जिनके बारे में उनके फैन्स नित नई जानकारी जानना चाहते हैं. फिर वह चाहे उनकी फिल्म लाइफ से हो या फिर पर्सनल लाइफ से जुड़ी कोई बात. अमिताभ बच्चन पर कई किताबें भी लिखी हैं. ऐसी ही एक किताब पुष्पा भारती की ‘अमिताभ बच्चन जीवन गाथा’ है जिसमें लेखिका ने उनके बारे में कई दिलचस्प बातें बताई हैं. यही नहीं, इस किताब में अमिताभ बच्चन ने अपनी जिंदगी और बचपन से जुड़े कई दिलचस्प रहस्य भी खोले हैं. 

08pea20g

यह भी पढ़ें

अमिताभ बच्चन के बचपन का ऐसा ही एक किस्सा पुष्पा भारती की ‘अमिताभ बच्चन जीवन गाथा’ में मिलता है, जिसमें उन्होंने एक बंगले के राज को जानने के लिए पैसे चुराए थे. अमिताभ बच्चन इस किताब में कुछ इस तरह किस्सा बताते हैं: अमिताभ बच्चन उन दिनों इलाहाबाद के क्लाइव रोड पर रहते थे. उनके घर के सामने एक बहुत बड़ी कोठी थी. जिसके बारे में लोग कहते थे कि एक बुढ़ी रानी रहती थी. रानी बेतिया की कोठी उसका नाम था. जिसकी चारों तरफ से ऊंची-ऊंची दीवारें थीं. कोई अंदर जा नहीं सकता था. कभी किसी ने उस रानी को देखा नहीं था और हम लोग उत्सुक रहते थे कि किसी तरह उस गेट के अंदर घुसकर, अंदर का जो माहौल है, वह देख सकें. बड़ी ही मिस्टीरियस सी एक इमेज थी उस मकान की. गेट के बाहर काफी चौकीदार वगैरह घूमा करते थे. मुझे याद है कि हमने कई दफे कोशिश की भी कि अंदर घुस सकें और देख सकें कि इस गेट के पीछे क्या है, इस मकान में क्या है.’

अमिताभ बच्चन आगे बताते हैं, ‘एकाध दफे उस चौकीदार ने कहा भा कि अगर तुम चार आने लाओ तो हम शायद तुम्हें गेट के अंदर जाने दें. तब मुझे, मां की ड्रेसिंग टेबल याद आई थी, जिस पर एक छोटा-सा डिब्बा रखा रगता था. जिसमें शायद वे कुछ चूड़ियां या कुछ इस तरह की छोटी-मोटी चीजें रखा करती थीं. उसके अंदर थोड़ी-बहुत चेंज भी पड़ी रहती थी. मुझे याद है कि मैंने उसमें से पैसे चुराये थे और पकड़ा भी गया था. मारी भी पड़ी थी. वैसे उस दरबान को पैसे देने के बावजूद हम लोग मकान के अंदर नहीं जा सके थे.’ पुष्पा भारती की किताब ‘अमिताभ बच्चन जीवन गाथा’ वाणी प्रकाशन से प्रकाशित हुई है. 

VIDEO: विद्या बालन मुंबई में हुईं स्पॉट, दिखा अलग अंदाज

S

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here