Bihar: जदयू ने अजय आलोक को पार्टी से निकाला, दो प्रदेश महासचिवों को भी दिखाया बाहर का रास्ता

0
7


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटना
Published by: संजीव कुमार झा
Updated Tue, 14 Jun 2022 02:41 PM IST

ख़बर सुनें

बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड ने बड़ी कार्रवाई करते हुए अपने तीन बड़े नेताओं को पार्टी से बाहर निकाल दिया है। इन नेताओं में पूर्व प्रदेश प्रवक्ता अजय आलोक, पार्टी के प्रदेश महासचिव अनिल कुमार और विपिन यादव शामिल हैं। इन सभी पर अनुशासनहीनता का आरोप है। प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इन सभी नेताओं की प्राथमिकी सदस्यता भी निलंबित की गई है। इसके अलावा पार्टी नेता जितेंद्र नीरज को भी प्राथमिकी सदस्य से निलंबित किया जाता है।

प्रदेश अध्यक्ष ने बताई कार्रवाई की वजह
जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने कहा कि पार्टी के पदाधिकारी का काम दल के प्रति वफादारी दिखाते हुए अपनी पार्टी को मजबूत करना है। लेकिन कुछ दिनों से देखा जा रहा था कि ये नेता  दलहित के विरुद्ध पार्टी के समानांतर चल रहे कार्यक्रम में सक्रिय थे। वे पार्टी के पदाधिकारी के रूप में दल के कार्यकर्ताओं से संवाद स्थापित कर उन्हें दिग्भ्रमित कर रहे थे।

कहीं आरसीपी सिंह तो वजह नहीं?
बताया जा रहा है कि इन नेताओं की नजदीकी केंद्रीय मंत्री और कभी सीएम नीतीश के करीबी रहे आरसीपी के साथ देखी जा रही थी। अनिल कुमार और विपिन कुमार काफी दिनों से जेडीयू प्रदेश कार्यालय के बाहर केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह के कार्यक्रमों में सक्रिय दिख रहे थे। डा. अजय आलोक ने भी पिछले दिनों राज्यसभा चुनाव के समय प्रत्याशी के चयन को लेकर सार्वजनिक रूप से आरसीपी सिंह के समर्थन में वक्तव्य दिया था। 

विस्तार

बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड ने बड़ी कार्रवाई करते हुए अपने तीन बड़े नेताओं को पार्टी से बाहर निकाल दिया है। इन नेताओं में पूर्व प्रदेश प्रवक्ता अजय आलोक, पार्टी के प्रदेश महासचिव अनिल कुमार और विपिन यादव शामिल हैं। इन सभी पर अनुशासनहीनता का आरोप है। प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इन सभी नेताओं की प्राथमिकी सदस्यता भी निलंबित की गई है। इसके अलावा पार्टी नेता जितेंद्र नीरज को भी प्राथमिकी सदस्य से निलंबित किया जाता है।

प्रदेश अध्यक्ष ने बताई कार्रवाई की वजह

जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने कहा कि पार्टी के पदाधिकारी का काम दल के प्रति वफादारी दिखाते हुए अपनी पार्टी को मजबूत करना है। लेकिन कुछ दिनों से देखा जा रहा था कि ये नेता  दलहित के विरुद्ध पार्टी के समानांतर चल रहे कार्यक्रम में सक्रिय थे। वे पार्टी के पदाधिकारी के रूप में दल के कार्यकर्ताओं से संवाद स्थापित कर उन्हें दिग्भ्रमित कर रहे थे।

कहीं आरसीपी सिंह तो वजह नहीं?

बताया जा रहा है कि इन नेताओं की नजदीकी केंद्रीय मंत्री और कभी सीएम नीतीश के करीबी रहे आरसीपी के साथ देखी जा रही थी। अनिल कुमार और विपिन कुमार काफी दिनों से जेडीयू प्रदेश कार्यालय के बाहर केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह के कार्यक्रमों में सक्रिय दिख रहे थे। डा. अजय आलोक ने भी पिछले दिनों राज्यसभा चुनाव के समय प्रत्याशी के चयन को लेकर सार्वजनिक रूप से आरसीपी सिंह के समर्थन में वक्तव्य दिया था। 

S

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here