Crime News: बिहार में एके-47 से दनादन गोलियां चलाने वाला गैंगस्टर दिल्ली से गिरफ्तार

0
24


सार

वारदात के बाद आजाद भागकर दिल्ली आ गया और छिपकर यहां रह रहा था। पुलिस ने उसके पास से एक पिस्टल व तीन कारतूस बरामद किए हैं। आरोपी से पूछताछ कर मामले की छानबीन की जा रही है।

ख़बर सुनें

बिहार में विधान परिषद के एक प्रत्याशी पर एके-47 से दनादन गोलियां चलाने वाले गैंग को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने बिहार एटीएस के साथ मिलकर दिल्ली से गिरफ्तार किया। पकड़े गए आरोपी की पहचान सिवान निवासी आजाद अली (43) के रूप में हुई है। आजाद मृत बाहुबली सांसद शहाबुद्दीन का करीबी रहा है।

आजाद ने 4 अप्रैल 2022 को शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा और गैंगस्टर आफताब आलम व अन्यों के साथ मिलकर मोहम्मद रहीस खान के काफिले पर हमला किया था। इन लोगों ने 50 से अधिक राउंड गोलियां चलाई थी। हमले में एक राहगीर की मौत हो गई थी, जबकि चार अन्य जख्मी हो गए थे।

वारदात के बाद आजाद भागकर दिल्ली आ गया और छिपकर यहां रह रहा था। पुलिस ने उसके पास से एक पिस्टल व तीन कारतूस बरामद किए हैं। आरोपी से पूछताछ कर मामले की छानबीन की जा रही है।

स्पेशल सेल के पुलिस उपायुक्त जसमीत सिंह ने बताया कि एसीपी अत्तर सिंह और इंस्पेक्टर शिव कुमार की टीम को खबर मिली थी कि बिहार का गैंगस्टर दिल्ली-एनसीआर में छिपकर रह रहा है। इस दौरान बिहार एटीएस की टीम ने भी दिल्ली पुलिस से आरोपी को पकड़ने के लिए सहयोग किया।

शुक्रवार देर रात को संयुक्त टीम को खबर मिली कि आरोपी राजघाट के पास आने वाला है। देर रात करीब 11.15 बजे आरोपी को काबू कर लिया गया। पुलिस टीम को देखते ही आरोपी ने भागने का प्रयास किया। आरोपी की तलाशी लेने पर पुलिस को उसके पास से एक पिस्टल व तीन कारतूस बरामद हुए।

छानबीन के दौरान पुलिस को पता चला कि आजाद अली के खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास, लूटपाट, धमकी देने, फिरौती के लिए अपहरण और अवैध हथियार के आधा दर्जन मामले दर्ज हैं। आरोपी पूर्व बाहुबली सांसद शहाबुद्दीन का करीबी रहा है। अभी वह शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा व गैंगस्टर आफताब आलम के साथ काम कर रहा है।

आफताब की सिवान में विरोधी गुट मोहम्मद रहीस खान से प्रॉपर्टी पर कब्जों और वर्चस्व को लेकर लड़ाई चल रही है। अभी बिहार में हुए विधान परिषद के चुनाव के दौरान रहीस ने चुनाव लड़ा था, लेकिन वह हार गया। चुनाव वाले दिन वह अपने काफिले के साथ वापस अपने गांव लौट रहा था।

इस बीच आजाद अली, आफताब आलम, ओसामा व अन्यों ने इनके काफिले पर एके-47 पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दी थीं। हमले में रहीस के दो लोग जख्मी हुए थे, बाकी तीन राहगीरों का गोली लगी थी। बाद में एक राहगीर की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। वारदात के बाद से आजाद फरार था। पुलिस उससे पूछताछ कर मामले की छानबीन कर रही है।

विस्तार

बिहार में विधान परिषद के एक प्रत्याशी पर एके-47 से दनादन गोलियां चलाने वाले गैंग को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने बिहार एटीएस के साथ मिलकर दिल्ली से गिरफ्तार किया। पकड़े गए आरोपी की पहचान सिवान निवासी आजाद अली (43) के रूप में हुई है। आजाद मृत बाहुबली सांसद शहाबुद्दीन का करीबी रहा है।

आजाद ने 4 अप्रैल 2022 को शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा और गैंगस्टर आफताब आलम व अन्यों के साथ मिलकर मोहम्मद रहीस खान के काफिले पर हमला किया था। इन लोगों ने 50 से अधिक राउंड गोलियां चलाई थी। हमले में एक राहगीर की मौत हो गई थी, जबकि चार अन्य जख्मी हो गए थे।

वारदात के बाद आजाद भागकर दिल्ली आ गया और छिपकर यहां रह रहा था। पुलिस ने उसके पास से एक पिस्टल व तीन कारतूस बरामद किए हैं। आरोपी से पूछताछ कर मामले की छानबीन की जा रही है।

स्पेशल सेल के पुलिस उपायुक्त जसमीत सिंह ने बताया कि एसीपी अत्तर सिंह और इंस्पेक्टर शिव कुमार की टीम को खबर मिली थी कि बिहार का गैंगस्टर दिल्ली-एनसीआर में छिपकर रह रहा है। इस दौरान बिहार एटीएस की टीम ने भी दिल्ली पुलिस से आरोपी को पकड़ने के लिए सहयोग किया।

शुक्रवार देर रात को संयुक्त टीम को खबर मिली कि आरोपी राजघाट के पास आने वाला है। देर रात करीब 11.15 बजे आरोपी को काबू कर लिया गया। पुलिस टीम को देखते ही आरोपी ने भागने का प्रयास किया। आरोपी की तलाशी लेने पर पुलिस को उसके पास से एक पिस्टल व तीन कारतूस बरामद हुए।

छानबीन के दौरान पुलिस को पता चला कि आजाद अली के खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास, लूटपाट, धमकी देने, फिरौती के लिए अपहरण और अवैध हथियार के आधा दर्जन मामले दर्ज हैं। आरोपी पूर्व बाहुबली सांसद शहाबुद्दीन का करीबी रहा है। अभी वह शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा व गैंगस्टर आफताब आलम के साथ काम कर रहा है।

आफताब की सिवान में विरोधी गुट मोहम्मद रहीस खान से प्रॉपर्टी पर कब्जों और वर्चस्व को लेकर लड़ाई चल रही है। अभी बिहार में हुए विधान परिषद के चुनाव के दौरान रहीस ने चुनाव लड़ा था, लेकिन वह हार गया। चुनाव वाले दिन वह अपने काफिले के साथ वापस अपने गांव लौट रहा था।

इस बीच आजाद अली, आफताब आलम, ओसामा व अन्यों ने इनके काफिले पर एके-47 पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दी थीं। हमले में रहीस के दो लोग जख्मी हुए थे, बाकी तीन राहगीरों का गोली लगी थी। बाद में एक राहगीर की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। वारदात के बाद से आजाद फरार था। पुलिस उससे पूछताछ कर मामले की छानबीन कर रही है।

S

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here