ननद-भऊजाई का प्यार !

0
146
ननद-भऊजाई का प्यार !


बहू भौजाई का प्यार

नंद – हम राखी भेजते रहे, राखीया रीचल न भउजी?

भौजाई – ना जी, अबी ले ना पहंचल

नंद – सब ठीक है, भउजी, अगर आप राखी तक नहीं पहुँचते हैं, तो आप खुद आएँगे।

0

0

अगले दिन भुजई का फोन कई ट्रैवर्स के पास गया – राउर राखी जयल जी के पास पहुँची।

0

0

नंद – हा हा हा … अब तुम सुधर गए, तुमने केकड़े नहीं भेजे …।



Source

Leave a Reply