Bihar: आगे क्या मुंह दिखाऊंगा…नीतीश से मुलाकात पर प्रशांत किशोर का ट्वीट

0
44


ख़बर सुनें

चुनावी रणनीतिकार से कार्यकर्ता बने प्रशांत किशोर ने मंगलवार देर रात पटना में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ मुलाकात की। जिसके बाद उन्होंने एक  ट्वीट किया। दोनों के बीच हुई इस मुलाकात को नीतिश कुमार ने एक  बैठक बताते हुए  किसी भी राजनीतिक महत्वकांझा से इनकार किया था, लेकिन गुरुवार को प्रशांत किशोर ने रामधारी सिंह ‘दिनकर’ द्वारा लिखित रश्मिरथी से दो पंक्तियां पोस्ट कीं।

हालांकि, उनका यह ट्वीट बेगूसराय में हुए गोलीकांड के ठीक बाद सामने आया है। उसी धरती पर जन्मे राष्ट्रकवि दिनकर के शब्दों का प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया कि,  ‘तेरी सहायता से जय तो मैं अनायास पा जाऊंगा, आनेवाली मानवता को, लेकिन, क्या मुख दिखलाऊंगा?-उनके इस ट्वीट के बाद कई सवाल उठ खड़े हुए हैं।  सवाल यह है कि वो किस राजनीतिक दल के साथ जाने की बात कर रहे है। हालांकि, कुछ दिनों पहले ही नीतीश ने कहा था कि प्रशांत किशोर उनसे मिलना चाहते और बाद में पीके की उनसे पवन वर्मा ने मुलाकात कराई। सियासी गलियारे में चर्चा है कि, जन सुराज अभियान को बंद कर अब प्रशांत किशोर एक बार फिर से उनके खेमे में जा सकते है।

निभाई थी यह भूमिका
बिहार में हुए 2015 में हुए विधानसभा चुनावों के दौरान लालू प्रसाद यादव की राष्ट्रीय जनता दल और नीतीश कुमार की जनता दल के बीच गठबंधन  कराने में अहम भूमिका निभाई थी। जिसके बाद प्रशांत किशोर को 2018 में जद (यू) में शामिल किया गया था। साथ ही उन्हें  राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का पद भी दिया गया, लेकिन नागरिकता (संशोधन) अधिनियम, 2019 और प्रस्तावित राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के विरोध के कारण उन्हें पार्टी से बेदखल कर दिया गया। 

 
 

विस्तार

चुनावी रणनीतिकार से कार्यकर्ता बने प्रशांत किशोर ने मंगलवार देर रात पटना में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ मुलाकात की। जिसके बाद उन्होंने एक  ट्वीट किया। दोनों के बीच हुई इस मुलाकात को नीतिश कुमार ने एक  बैठक बताते हुए  किसी भी राजनीतिक महत्वकांझा से इनकार किया था, लेकिन गुरुवार को प्रशांत किशोर ने रामधारी सिंह ‘दिनकर’ द्वारा लिखित रश्मिरथी से दो पंक्तियां पोस्ट कीं।

हालांकि, उनका यह ट्वीट बेगूसराय में हुए गोलीकांड के ठीक बाद सामने आया है। उसी धरती पर जन्मे राष्ट्रकवि दिनकर के शब्दों का प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया कि,  ‘तेरी सहायता से जय तो मैं अनायास पा जाऊंगा, आनेवाली मानवता को, लेकिन, क्या मुख दिखलाऊंगा?-उनके इस ट्वीट के बाद कई सवाल उठ खड़े हुए हैं।  सवाल यह है कि वो किस राजनीतिक दल के साथ जाने की बात कर रहे है। हालांकि, कुछ दिनों पहले ही नीतीश ने कहा था कि प्रशांत किशोर उनसे मिलना चाहते और बाद में पीके की उनसे पवन वर्मा ने मुलाकात कराई। सियासी गलियारे में चर्चा है कि, जन सुराज अभियान को बंद कर अब प्रशांत किशोर एक बार फिर से उनके खेमे में जा सकते है।

निभाई थी यह भूमिका

बिहार में हुए 2015 में हुए विधानसभा चुनावों के दौरान लालू प्रसाद यादव की राष्ट्रीय जनता दल और नीतीश कुमार की जनता दल के बीच गठबंधन  कराने में अहम भूमिका निभाई थी। जिसके बाद प्रशांत किशोर को 2018 में जद (यू) में शामिल किया गया था। साथ ही उन्हें  राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का पद भी दिया गया, लेकिन नागरिकता (संशोधन) अधिनियम, 2019 और प्रस्तावित राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के विरोध के कारण उन्हें पार्टी से बेदखल कर दिया गया। 

 

 

S

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here